छिपकली होती है मां लक्ष्मी का प्रतीक, ये आसान उपाय करने से होती है हर मुराद पूरी

Soa Technology

शास्त्र के अनुसार छिपकली का किसी विशेष समय पर दिखना, जमीन पर या शरीर पर गिरना भविष्य की शुभ-अशुभ घटनाओं का संकेत होता है।

घर में छिपकली देखकर हम उसे भगाने लगते हैं, लेकिन वो कोई ऐसा जीव नहीं है जिससे हमारा कुछ नुकसान होता है। वैसे घर में छिपकली का दिखा जाना एक सामान्य-सी बात है। ये मात्र एक जीव हैं किंतु जीव-जंतुओं और मनुष्य को प्रकृति का एक अहम हिस्सा माना गया है। किसी भी परेशानी से निपटने में जीवों की सेवा करने से शुभ फल मिलता है।

इसी तरह हिन्दू शास्त्रों में छिपकली के दिखने और उससे जड़ी गतिविधियों के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है। शास्त्रों में प्रचलित शकुन शास्त्र के अनुसार छिपकली का किसी विशेष समय पर दिखना, जमीन पर या शरीर पर गिरना भविष्य की शुभ-अशुभ घटनाओं का संकेत होता है। इसके अलावा छिपकली शरीर के किस खास हिस्से पर गिरी है इससे भी भविष्य की शुभ-अशुभता जुड़ी होती है।

शास्त्रों के अनुसार छिपकली यदि दिवाली की रात घर में दिखाई दे जाए तो इसे लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि उसके आने से वर्षों के लिए वह घर सुख-समृद्धि को प्राप्त कर लेती है। किंतु छिपकली के एक प्रयोग के माध्यम से कैसे लाभ पाया जा सकता है, छिपकली दिखने पर ये सरल टोटका अपनाने से बन जाते हैं सारे काम- जब भी कभी आपको घर में दीवार पर छिपकली दिखे तो तुरंत मंदिर में या भगवान की मूर्ति के पास रखा कंकू-चावल ले आएं और इसे दूर से ही छिपकली पर छिड़क दें। ऐसा करते हुए अपने मन की किसी मुराद को भी मन ही मन बोलें और यह कामना करें कि वह पूरी हो जाए। ऐसा माना जाता है कि छिपकली एक पूजनीय प्राणी है और इसका पूजन करने से धन संबंधी समस्याओं का अंत हो जाता है।

छिपकली एक ऐसा जीव है जिसे देखते ही लोगों को घिन आने लगती है। इससे डर कर या भगा कर आप अपना ही नुकसान करते हैं। इसे लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। दिवाली के दिन पूजा के दौरान जब छिपकली सामने आ जाती है तो ये एक शुभ संकेत होता है।

लेकिन जब दिवाली की सफाई की जा रही हो और उसमें मरी हुई छिपकली आपके सामने आ जाए तो ये एक अशुभ संकेत माना जाता है। आपसे सफाई करते हुए यदि कोई छिपकली या उसका बच्चा मर जाए तो तुरंत उसका संस्कार कर दें। इससे आप हत्या के पाप से बच जाएगें और मां लक्षमी भी नाराज नहीं होगीं।

source:jansatta


Leave a Reply