असली आराधना

असली आराधनाएक बार श्री गुरु नानक देव जी के पास एक नवाब और काजी आये ! उन्होंने आकर गुरु जी से कहा – आप कहते है ना कि ना कोई हिन्दू और ना मुसलमान ; सब कुदरत के बन्दे हैं!अगर आप यही मानते है कि ईश्वर एक ही है तो आज आप हमारे साथ चल […]

Read More

देशभक्ति

देशभक्ति प्रताप चित्तौड़ के राणा उदय सिंह का बेटा था।प्रताप राणा के बेटे थे उन्हें गाने बजाने का बहुत शौक था। यूँ तो वो सदैव देश भक्ति गीत की लय में रहते थे, लेकिन फिर भी लोग उन्हें कहते थे। तुम एक राजपूत घराने के भविष्य के राणा हो।यह क्या शौक लिए हुए हो।गाना बजाना […]

Read More

अपनापन

अपनापन डा. मीनाक्षी दो साल बाद लंदन से भारत लौटी हैं। वहाँ हर तरीके से सब कुछ बढ़िया होते हुए भी वो चैन से नही थी। विदेशी भूमि को उनका परिवार कभी अपना नहीं पाया। अब पटना लौट कर चैन की सांस आई है। दीपावली की कुछ शॉपिंग करने अपने प्रिय पटना मार्केट आई थीं। […]

Read More

परिवार और दोस्त

परिवार और दोस्त जंगली भैंसों का एक झुण्ड जंगल में घूम रहा था।तभी एक बछड़े ने पूछा, पिता जी, क्या इस जंगल में ऐसी कोई चीज है जिससे डरने की ज़रुरत है? बस शेरों से सावधान रहना हा, भैंसा बोला। हाँ , मैंने भी सुना है कि शेर बड़े खतरनाक होते हैं। अगर कभी मुझे […]

Read More

बुजुर्गों का मन

💐💐बुजुर्गों का मन💐💐 नहीं बहू !! बूंदे यहां नहीं आ रही। तुम्हारे बाबूजी को बहुत पसंद थी बारिश। घंटो बैठे रहते थे खिड़की पर हम दोनों। साथ में चलता था पकोड़े और चाय का दौर। सच क्या दिन थे वो भी अब तो ना उनका साथ रहा ना पकोड़े झेलने वाला जिस्म! मिथलेश जी ठंडी […]

Read More

अपने ‘मन’ को काबू में कैसे रखें?अपने ‘मन’ को

किसी राजा के पास एक बकरा था! एक बार उसने एलान किया कि ~जो कोई इस बकरे को जंगल में चराकर तृप्त करेगा,nमैं उसे आधा राज्य दे दूँगा! लेकिन बकरे का पेट पूरा भरा है या नहीं – *इसकी परीक्षा मैं खुद करूँगा! इस एलान को सुनकर एक आदमी राजा के पास आकर कहने लगा […]

Read More

मजदूर के जूते

मजदूर के जूते एक बार एक शिक्षक संपन्न परिवार से सम्बन्ध रखने वाले एक युवा शिष्य के साथ कहीं टहलने निकले . उन्होंने देखा की रास्ते में पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते उतरे पड़े हैं , जो संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर के थे जो अब अपना काम ख़त्म […]

Read More

वास्तव में सुखी कौन

वास्तव में सुखी कौन एक भिखारी किसी किसान के घर भीख माँगने गया। किसान की स्त्री घर में थी, उसने चने की रोटी बना रखी थी। किसान जब घर आया, उसने अपने बच्चों का मुख चूमा, स्त्री ने उनके हाथ पैर धुलाये, उसके बाद वह रोटी खाने बैठ गया। स्त्री ने एक मुट्ठी चना भिखारी […]

Read More

माँ-बाप भगवान का रूप होते हैं। उनकी सेवा कीजिये, और प्यार दीजिये क्योंकि एक दिन आप भी बूढ़े होंगे।

एक पुत्र अपने वृद्ध पिता को रात्रिभोज के लिये एक अच्छे रेस्टोरेंट में लेकर गया। खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया। रेस्टोरेंट में बैठे दूसरे खाना खा रहे लोग वृद्ध को घृणा की नजरों से देख रहे थे लेकिन उसका पुत्र शांत था। खाने के बाद पुत्र बिना […]

Read More

ऋषि और एक चूहा

ऋषि और एक चूहा एक वन में एक ऋषि रहते थे। उनके डेरे पर बहुत दिनों से एक चूहा भी रहता आ रहा था। यह चूहा ऋषि से बहुत प्यार करता था। जब वे तपस्या में मग्न होते तो वह बड़े आनंद से उनके पास बैठा भजन सुनता रहता. यहाँ तक कि वह स्वयं भी […]

Read More